Cure is possible

Stop 🛑 ageing

Water is life. 70% of our body is water. The body consumes 2600 grams of water per day. Kidney 1500 grams, skin 650 grams, lungs 320 grams, faeces urinary tract 130 grams, it is necessary to drink at least 2 to 3 litres of water daily to maintain the water balance in the body. Today, diseases have become almost ubiquitous. To get rid of them, people are taking medicines and poisons in their bodies. These venoms travel together in the blood, later on, become the cause of major diseases. Come! To get rid of many diseases, our ancestors, Vedic scientists, and sages had laid the foundation for a healthy life by taking the help of water. It is very easy to attract health from water. Health is the basis of a healthy life. What we drink is what we are. Impure water causes diseases in the body. In the name of pure water, we consume dead water. Plastic bottle water is just like plastic. How can we expect a healthy life from this lifeless water?

Water is the second biggest requirement in the body after the air. Life cannot go on for long without water. About two-thirds of the body is made up of water. Water requirement is different in different parts of the body. When there is an imbalance in the required proportion of water, the bodily functions start getting affected, so we need to know and understand when and how we should use water? How much, how and when do you drink water? What is his temperature? Clean, pure, mildly purified water suitable for body temperature is useful for the common man. The more slowly you sip water, the more beneficial it is. That is why we have a famous folk sentence – “Drink food and eat water” which means drink water slowly. The main function of water in our body is to be involved in various processes that digest food and build the structure of the body. Water is beneficial for removing the dirt present inside the body through sweat and excreta, regulating body temperature and for physical purification. Due to lack of water in the body, there is a possibility of constipation, fatigue, heat in summer etc. It is because of water that we experience different tastes of nine types of rasas mean liquid – sweet, sour, salty, bitter, pungent and Casella etc. Drinking water immediately after a meal is harmful and toxic.

Drinking water immediately before meals quench hunger. Digestion of food is not equal to hunger. Take food only when you have a good appetite. After eating food, due to the presence of acid in the liver, gall bladder, pancreas, etc. Therefore, often the general public has a desire to drink water. But drinking water dilutes the digestive juices, due to which complete digestion of food is not done in the stomach. As a result, the energy that should be obtained from food is often not available, the nutritious elements from which the components of juice, blood, flesh, marrow, semen etc. should be made, are not available. Indigestible food remains to lie in the stomach and intestines, due to which there is a possibility of various digestive diseases like malaise, constipation, gas, acidity, IBS etc. On the other hand, the body needs more energy in vain to remove the undigested food. Therefore, the longer you drink water after the meal, the better the digestion. Usually, two hours after a meal, drink plenty of water as needed. So that there is no shortage of water in the body. Food should be digested properly.

Art of drink life

Unless there is a practice in the beginning, along with solid food, liquids must also be used. A little water can be drunk in between meals, but if that water is lukewarm, not after eating very cold, if necessary, drink as much hot potable water as possible. Water should not be drunk immediately after the digestion of food. Drinking more water together before digestion of food increases the growth of gooseberry. Indigestion, gas and constipation, and acidity occur. Therefore, it is appropriate for health-loving seekers to abandon the evening meal as much as possible, but if this is not possible and it is necessary to drink water after the meal, then the water should be heated according to the temperature of our body, and sip that hot water slowly….

By drinking hot water according to body temperature, it becomes possible to balance the heat of the stomach. Along with this, by drinking water slowly, the digestive discharge in the mouth mixes with the water and that water becomes digestive. Performs the function of medicine in the body. After renouncing sleep in the morning, without fuming or rinsing or rinsing the mouth, one should drink one to dead litres of water kept in a copper vessel throughout the night, according to its capacity, this action is called Usha: Paan. Along with keeping the mouth closed throughout the night, foreign substances get deposited on the tongue. That is why, despite working all day, there is no smell in the mouth as much as it does in sleep without eating anything. When these foreign elements go back with water on an empty stomach, then they act as medicine. Therefore, the full benefit of (Ushapan) drinks 2 or 3 glasses of water without gap, is obtained only by drinking water with oudatumun. Due to this action, about 20% of the toxins inside the body go out. Constipation disorders are removed. This is an important process in skin disorders. By taking a walk or doing abdominal exercises (contraction and expansion) after Usha paan, the intestines in the stomach are cleared completely. Due to this all types of digestive diseases get quick relief. The best time to drink water is early morning on a hungry stomach. In the middle of the night, the extraneous unnecessary elements that accumulate overnight in the body through metabolic activity are removed by the kidneys, intestines, skin or lungs. Therefore, all the organs of the excretory process become active in expelling all the foreign substances. Unless the poison collected overnight is not completely expelled and food is taken from above, then there is a possibility of various types of diseases. Usha paan provides relief from piles, bloating, congestion, fever, abdominal disease, constipation, bowel disease, obesity, kidney disease, liver disease, bleeding from the nostrils, back pain, eye, ear etc.

There are many benefits like an increase in eyesight, clear intellect and hair on the head does not turn white quickly. This has been confirmed in an article published by Japan’s Sickness Association. The full benefit of such an experiment is obtained only when drinking water with the above method, about two hours after the meal or after the digestion of food in the stomach, drink water. Ushapan is equally useful for both the healthy and the sick. In the beginning, if you cannot drink so much water at once, then start with two glasses of water in the beginning. Gradually, the quantity should be increased from one to one and a half litres. Drinking so much water at once does not have any adverse effect, only more urine can come in the first few days. This experiment is cheap, beautiful, self-supporting and very effective. Hot water is medicine.

We can clean the body only with the help of water. Feelings are seen in the water. Water represents the inner feeling of the mind. By looking at water from the point of view of love, these crystals of water act as positive energy. Water acts as negative energy when viewed with fear and anger. This is the effect of crystals in the water. Because water is alive. There is life in water. Water is not only for quenching thirst, it is a wonderful gift from Mother Nature to human beings. Alkaline water This hypothesis is alive. Water is prepared by giving due respect through nanotechnology. The navel and life centre of Indian culture is “Yajna”. By filtering the ashes of Yagya and keeping them soaked in water, the water becomes alkaline, there is a wonderful display of energy. Cold drinks and frozen or ice water are injurious to health. In a healthy state, the temperature of our body is about 98.4 degrees Fahrenheit i.e. 37 degrees centigrade. Just as electricity is spent by running electrical appliances, air conditioners, coolers, etc. Similarly, by drinking or eating cold drinks, the body has to spend its energy in vain to keep its temperature under control. Therefore, water should be drunk as hot as the temperature of the body. Nowadays, the practice of drinking ice cream and cold drinks after meals in group programs is very harmful to health. It is best to avoid these methods. Health is in our own hands.

Clean your utensil (body)

It is beneficial to drink water to reduce the harmful effects left by the endocrine glands at the time of fear, anger, unconsciousness, grief and injury. Coldwater should be drunk in case of heat and heat and hot water in case of cold, it gives relief to the body. There is no possibility of heatstroke after drinking water and going out in the heat. Even in high acidity, more water should be drunk, because it protects the soft surface inside the stomach and digestive tract from irritation. Water must be drunk at an interval of two hours in a day because the secretion of endocrine glands keeps coming out in sufficient quantity in it. The digestive organs do not have to do the work of digesting food during fasting. Therefore, they start removing the foreign elements easily in the body. Drinking more water helps in the removal of those elements.

The cause of heaviness in the stomach, sour belching, burning in the stomach and dyspepsia, etc. occurs due to the malfunction in the digestive system. Therefore, drinking hot water at such times improves digestion and gives relief to the above diseases. Boiled and cooled water should be drunk at the time of diarrhoea, vomiting, and diarrhoea because this water becomes germ-free and prevents the loss of water in the body due to diarrhoea. Taking hot water vapour through the nose provides relief for cold and throat related diseases. Water is used in most of the medicines that are taken. Most solid medicines, whether they are allopathic tablets or oral medicines related to Ayurveda or other systems of medicine, can be easily swallowed through the water. Washing eyes with Triphala water improves vision. Digestive diseases are cured by drinking water soaked in fenugreek seeds overnight. In naturopathy, water is used in different ways for physical purification.

Except in special circumstances, bathing should be done with freshwater only. Freshwater increases blood circulation. Due to this energy and strength increase in the body. While bathing with hot water increases laziness and sluggishness. The felt use of water therapy easily absorbs different types of energies of water. Therefore, nowadays in various medical systems, the treatment can be made effective by storing the necessary energy in water and giving it to the patient. Under sun rays and colour therapy, the colour required in the body, water in a glass bottle or vessel of that colour in a certain way and keeping it in the sun brings the qualities of that colour. Drinking such water gives relief to diseases and if a healthy person drinks then there is no possibility of getting diseases. By keeping water on a magnet as needed, magnetic energy starts to accumulate in it. That water is used by magnetic therapists in the treatment of various diseases.

Like sun rays and magnets, keeping water inside the pyramid or on top of the pyramid produces health-promoting properties, consuming which gives relief to diseases and a healthy person remains disease-free. Water can also be acquired through various gems, mantras or as per the requirement of tones and waves of electric light of different colours. Incurable and infectious diseases can be treated by their consumption. As water is kept in contact with a vessel or a metal, the properties of that metal begin to arise in it. Each metal has its effect in terms of health. Drinking water energized by sleeping is beneficial in diseases of the respiratory system, such as asthma, shortness of breath, pulmonary diseases, and heart and brain-related diseases. Silver provides relief to the digestive organs, stomach, liver, gall bladder, many diseases of the intestines and diseases of the urinary system. Consumption of water full of other energy is very beneficial in joint diseases, polio, leprosy, blood pressure, knee pain, mental stress etc. The more you glorify water, the less it is. Because in the end water is life. Keeping water safe and using it properly is the need of the day. There is a concern in the future, that the new war will be for water only. Where there is water, there is life. Life is not lived without water. Respect for water and nature is essential.

Advertisement

जिस दिन प्यासा रहना होगा??

आज की पीढ़ी अनेक समस्या से घिरी हुई है। आज की जनरेशन रोगों से , मानसिक तनाव, शारीरिक समस्या में जकड़ी हुई हैं। सामाजिक मूल्य को खत्म किया जा रहा हैं। जीवन को भौतिक सुख के नज़रिए से देखा जा रहा है। जिस कारण वश प्राकृतिक आपदा, समस्या, तापमान में बढ़ोतरी, मानसिक विकृति से भरा आज समाज नजर आता हैं। जिसके परिणाम स्वरूप कही जगह पर बादल फटने का प्रकार होता है, तो कही जगह पर सुखा पड़ा रहता है। जैसे मानो प्रतीत होता है प्रकृति ने अपना बैलेंस खो दिया। मानव कुदरत के सामने उंगली खड़ी कर उसे चुनौती दे रहा है। पर्यावरण दिवस सिर्फ कागज पर मनाए जाता है। मां प्रकृति हमे हर समय हमारी मदद करती है। हम उसे धन्यवाद देने की जगह उसे समस्या देने का काम आज मानव जाति के द्वारा हो रहा है। ग्लोबल वार्मिग यह कोई सामान्य समस्या नहीं है। यह बड़ी आपदा के रूप में सामने आई है, इसे सावधान रहकर निपटना चाहिए।

संसार में एक ओर जनसंख्या की वृद्धि हो रही है, दूसरी और कारखाने और उद्योग-धंधे बढ़ रहे हैं। इन दोनों ही अभिवृद्धियों के लिए पेयजल की आवश्यकता भी बढ़ती चली जा रही है। पीने के लिए, नहाने के लिए, कपड़े धोने के लिए, रसोई एवं सफाई के लिए हर व्यक्ति को, हर परिवार को पानी चाहिए। जैसे-जैसे स्तर ऊँचा उठता जाता है, उसी मात्रा से पानी की आवश्यकता भी बढ़ती है। खाते-पीते आदमी अपने निवास स्थान में पेड़-पौधे, फल-फूल, घास-पात लगाते हैं, पशु पालते हैं। इन सबके लिए पानी की माँग और बढ़ती है। गर्मी के दिनों में भी ज्यादा छिड़काव के लिए पानी चाहिए।

कारखाने निरंतर पानी माँगते हैं। जितना बड़ा कारखाना उतनी बड़ी पानी की माँग । भाप पर चलने वाले थर्मल पॉवर प्लांट तथा दूसरी मशीनें पानी की अपेक्षा करती हैं। संशोधन और शोध संस्थान में भी ढेरों पानी की मात्रा का उपयोग प्रयोग के लिए होता है। शहरों में फ्लश , सीवर लाइनें तथा नाली आदि की सफाई के लिए अतिरिक्त पानी की जरूरत पड़ती है। कृषि और बागवानी का सारा दारोमदार ही पानी पर ठहरा हुआ हरियाली एवं वन संपदा पानी पर ही जीवित हैं। पशु पालन में बिना पानी के चल नही सकता। चारा-पानी अनिवार्य रूप में चाहिए और भी न जाने कितने ज्ञात-अज्ञात आधार हैं, जिनके लिये पानी की निरंतर जरूरत पड़ती हैं।

यह सारा पानी बादलों से मिलता है। पहाड़ों पर जमने वाली बर्फ, जिसके पिघलने से नदियाँ बहती हैं, वस्तुतः बादलों का ही अनुदान है। सूर्य की गर्मी से समुद्र द्वारा उड़ने वाली भाप बादलों के रूप में भ्रमण करती है। उनकी वर्षा से नदी-नाले, कुएँ, तालाब, झरने-बहने लगते है। उन्हीं से उपरोक्त आवश्यकताएँ पूरी होती हैं। जनसंख्या वृद्धि के साथ-साथ वृक्ष वनस्पतियों की, अन्न, शाक, पशु वंश की जो वृद्धि होती चली जा रही है, उसने पानी की माँग को पहले की अपेक्षा कहीं अधिक बढ़ा दिया है। यह माँग दिन-दिन अधिकाधिक उग्र होती जा रही है। बादलों के अनुदान से ही अब तक सारा काम चलता रहा है। सिंचाई के साधन नदी, तालाब, कुँओं से ही पूरे किये जाते हैं। इनके पास जो कुछ है, बादलों की ही देन है। स्पष्ट है कि बादलों के द्वारा जो कुछ दिया जा रहा है, वह आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए कम पड़ता है। संसार भर में पेयजल अधिक मात्रा में प्राप्त करने की चिंता व्याप्त है, ताकि मनुष्यों की पशुओं की, वनस्पतियों की, कारखानों की आवश्यकता को पूरा करते रहना संभव बना रहे।

बादलों पर किसी का नियंत्रण नहीं। वे जब चाहें जितना पानी बरसायें। उन्हें आवश्यकता पूरी करने के लिए बाध्य नहीं किया जा सकता है। वे बरसते भी हैं, तो अंधाधुंध बेहिसाब। वर्षा में वे इतना पानी फैला देते हैं कि पृथ्वी पर उसका संग्रह कर सकना संभव नहीं होता और वह बहकर बड़ी मात्रा में समुद्र में जा पहुँचता है। इसके बाद शेष आठ महीने आसमान साफ रहता है। गर्मी के दिनों में तो बूँद-बूँद पानी के लिए तरसना पड़ता है। इन परिस्थितियों में मनुष्यों को जल के अन्य साधन-स्रोत तलाश करने के लिए विवश होना पड़ रहा है, अन्यथा कुछ ही दिनों में जल संकट के कारण जीवन दुर्लभ हो जायेगा। गंदगी बहाने, हरियाली उगाने और स्नान-रसोई के लिए भी जब पानी कम पड़ जायेगा, तो काम कैसे चलेगा ? कारखाने किसके सहारे अपनी हलचल जारी रखेंगे ?

अमेरिका की आबादी लगभग तीस करोड़ है। वहाँ कृषि एवं पशुपालन में खर्च होने वाले पानी का खर्च प्रति मनुष्य के पीछे प्रतिदिन तेरह हजार गैलन आता है। घरेलू कामों में तथा उद्योगों में खर्च होने वाला पानी भी लगभग इतना ही बैठता है। इस प्रकार वहाँ हर व्यक्ति के पीछे २६ हजार गैलन पानी की नित्य जरूरत पड़ती है। यहाँ की आबादी विरल और जल स्रोत बहुत हैं, तो भी चिंता की जा रही है, कि आगामी शताब्दी में पानी की आवश्यकता एक संकट के रूप में सामने प्रस्तुत होगी। भारत की आबादी अमेरिका की तुलना में लगभग तीन गुनी अधिक है, किंतु जल साधन कहीं कम हैं। बड़े शहरों में अकेले मुंबई को ही लें, तो वहाँ की जरूरत 40 करोड़ गैलन हो पाती है। यही दुर्दशा न्यूनाधिक मात्रा में अन्य शहरों की है। देहाती क्षेत्र में अधिकांश कृषि उत्पादन वर्षा पर निर्भर है। जिस साल वर्षा कम होती है, उस साल भयंकर सूखे का सामना करना पड़ता है। मनुष्यों और पशुओं की जान पर बन आती है। यदि इन क्षेत्रों में मानव उपार्जित जल की व्यवस्था हो सके, तो खाद्य समस्या का समाधान हो सकता है।

नये जल-आधार तलाश करने में दृष्टि समुद्र की ओर ही जाती है। धरती का दो-तिहाई से भी अधिक भाग समुद्र से डूबा पड़ा है; किंतु वह है खारा। जिसका उपयोग उपरोक्त आवश्यकताओं में से किसी की भी पूर्ति नहीं कर सकता। इस खारे जल को पेय किस प्रकार बनाया जाय, इसी केंद्र पर भविष्य में मनुष्य जीवन की आशा इन दिनों केंद्रीभूत हो रही है। इस संदर्भ में राष्ट्रसंघ ने एक आयोग नियुक्त किया था, जिसने संसार के ४६ प्रमुख देशों में दौरा करके जल समस्या और उसके समाधान के संबंध में विस्तृत रिपोर्ट प्रस्तुत की है। इस रिपोर्ट का सारांश राष्ट्रसंघ ने प्रगतिशील देशों में खारे पानी का शुद्धीकरण’ नामक पुस्तक के रूप में प्रकाशित किया है, जिसमें प्रमुख सुझाव यही है कि समुद्री जल के शुद्धीकरण पर अधिकाधिक ध्यान दिया जाना चाहिए। यो वर्षा के जल को समुद्र

रोकने के लिए तथा जमीन की गहराई में बहने वाली अदृश्य नदियों का पानी ऊपर खींच लाने को भी महत्त्व दिया गया है और कहा गया है कि बादलों के अनुदान तथा पर्वतीय बर्फ के रूप में जो जल मिलता है, उसका भी अधिक सावधानी के साथ सदुपयोग किया जाना चाहिए।

उत्तर और दक्षिण ध्रुव-प्रदेशों के निकटवर्ती देशों के लिए एक योजना यह है कि उधर समुद्र में सैर करते-फिरने वाले हिम पर्वतों को पकड़ कर पेय जल की आवश्यकता पूरी की जाए, तो यह अपेक्षाकृत सस्ता पड़ेगा और सुगम रहेगा। संसार भर में जितना पेयजल है, उसका ८० प्रतिशत भाग ध्रुव-प्रदेश एंटार्कटिक के हिमावरण (आइसकैप) में बँधा पड़ा है। इस क्षेत्र में बर्फ के विशालकाय खंड अलग होकर समुद्र में तैरने लगते हैं और अपने ही आकार मे हिम द्वीप जैसा बना लेते हैं। वे समुद्री लहरों और हवा के दबाव से इधर-उधर सैर-सपाटे करते रहते हैं। दक्षिण ध्रुव के हिम पर्वतों को गिरफ्तार करके दक्षिण अमेरिका, आस्ट्रेलिया और अफ्रीका में पानी की आवश्यकता पूरी करने के लिए खींच लाया जा सकता है। इसी प्रकार उत्तर ध्रुव के हिम पर्वत एक बड़े क्षेत्र की आवश्यकता पूरी कर सकते हैं, यद्यपि उसमें संख्या कम मिलेगी।

अमेरिका के वैज्ञानिक डॉ० विलियम कैंबेल और डॉ० विल्फर्ड वीकस ने इसी प्रयोजन के लिए कैंब्रिज, इंग्लैंड में बुलाई गई एक इंटरनेशनल सिंपोजियम आन दि हाइड्रोलॉजी ऑफ ग्लेशियर्स में अपना प्रतिवेदन प्रस्तुत करते हुए कहा था—हिम पर्वतों को पकड़ने की योजना को महत्त्व दिया जाना चाहिए, ताकि पेयजल की समस्या को एक हद तक सस्ता समाधान मिल सके। भू-उपग्रहों की सहायता से फोटो लेकर यह पता लगाया जा सकता है, कि किस क्षेत्र में कैसे और कितने हिम पर्वत भ्रमण कर रहे हैं ? इन पर्वतों का 85 प्रतिशत भाग पानी में डूबा रहता है और शेष 20 प्रतिशत सतह से ऊपर दिखाई पड़ता है। इन्हें पाँच
एवं हजार मील तक घसीटकर लाया जा सकता है। इतना सफर करने में उन्हें चार-पाँच महीने लग सकते हैं। यह खर्चा और सफर की अवधि में अपेक्षाकृत गर्म वातावरण में बर्फ पिघलने लगना यह दो कारण यद्यपि चिंताजनक हैं, तो भी कुल मिलाकर वह पानी उससे सस्ता ही पड़ेगा, जितना कि हम जमीन पर रहने वालों को औसत हिसाब से उपलब्ध होता है।

हिसाब लगाया गया है कि ऐमेरी से आस्ट्रेलिया तक ढोकर लाया गया हिम पर्वत दो-तिहाई गल जायेगा और एक-तिहाई शेष रहेगा। रास से दक्षिण अमेरिका तक घसीटा गया हिम पर्वत 15 प्रतिशत ही शेष रहेगा। धीमी चाल से घसीटना अधिक लाभदायक समझा गया है, ताकि लहरों का प्रतिरोध कम पड़ने से बर्फ की बर्बादी अधिक न होने पाये। ७८ हजार हार्सपावर का एक टग जलयान आधा नाट की चाल से उसे आसानी के साथ घसीट सकता है। अपने बंदरगाह से चलकर हिम पर्वत तक पहुँचने और वापस आने में जो खर्च आयेगा और फिर उस बर्फ को पिघलाकर पेयजल बनाने में जो लागत लगेगी, वह उसकी अपेक्षा सस्ती ही पड़ेगी, जो म्युनिसपेलिटियाँ अपने परंपरागत साधनों से जल प्राप्त करने में खर्च करती हैं। सबसे बड़ी बात यह है कि बर्फ का जल, डिस्टिल्ड वाटर स्तर का होने के कारण स्वास्थ्य की दृष्टि से बहुत ही उपयोगी, स्वच्छ और हानिकारक तत्त्वों से सर्वथा रहित होगा। उसके स्तर को देखते हुए यदि लागत कुछ अधिक हो, तो भी उसे प्रसन्नतापूर्वक सहन किया जा सकता है। दूसरा उपाय यह सोचा गया है कि समुद्र के किनारे अत्यंत विशालकाय अणु भट्टियाँ लगाई जाएँ, उनकी गर्मी से कृत्रिम बादल उत्पन्न किये जाएँ, उन्हें ठंडा करके कृत्रिम नदियाँ बहाई जायें और उन्हें रोक-बाँधकर पेयजल की समस्या हल की जाए।

तीसरा उपाय यह है कि वर्षा का जल नदियों में होकर समुद्र में पहुँचता है, उसे बाँधों द्वारा रोक लिया जाए और फिर उनसे पेय जल की समस्या हल की जाए।दूसरे और तीसरे नंबर के उपाय जोखिम भरे हैं। अत्यधिक गर्मी पाकर समुद्री जलचर मर जायेंगे, तटवर्ती क्षेत्रों का मौसम गरम हो उठेगा और ध्रुव प्रदेशों तक उस गर्मी का असर पहुँचने से जल प्रलय उत्पन्न होगा और धरती का बहुत बड़ा भाग जलमग्न हो जायेगा। इतनी बड़ी अणु भट्टियाँ अपने विकरण से और भी न जाने क्या-क्या उपद्रव खड़े करेंगी ? तीसरे उपाय से यह खतरा है कि जब समुद्रों में नदियों का पानी पहुँचेगा ही नहीं, तो वे सूखने लगेंगे। खारापन बढ़ेगा और उस भारी पानी से बादल उठने ही बंद हो जायेंगे, तब नदियों का पानी रोकने से भी क्या काम चला ? ध्रुवों के घुमक्कड़ हिम द्वीप भी बहुत दूर तक नहीं जा सकते। उनका लाभ वे ही देश उठा सकेंगे, जो वहाँ से बहुत ज्यादा दूर नहीं हैं।

उपरोक्त सभी उपाय अनिश्चित एवं अधूरे हैं; पर इससे क्या ? पेय जल की बढ़ती हुई माँग तो पूरी करनी ही पड़ेगी। अन्यथा पीने के लिए, कृषि के लिए, कारखानों के लिए, सफाई के लिए भारी कमी पड़ेगी और उस अवरोध के कारण उत्पादन और सफाई की समस्या जटिल हो जाने से मनुष्य भूख, गंदगी और बीमारी से त्रसित होकर बेमौत मरेंगे।

यह सारी समस्याएँ बढ़ती हुई आबादी पैदा कर रही है। मनुष्य में यदि दूरदर्शिता होती, तो वह जनसंख्या बढ़ाने की विभीषिका अनुभव करता और उससे अपना हाथ रोकता; पर आज तो न यह होता दीखता है और न पेय जल का प्रश्न सुलझता प्रतीत होता है। मनुष्य को अपनी मूर्खता का सर्वनाशी दंड, आज नहीं तो कल भुगतना ही पड़ेगा। अनुमान है कि यह विषम परिस्थिति अगले दशक के अंत तक संसार के सामने गंभीर संकट के रूप में उपस्थित होगी।