Adjusting the inner frequency : 8

Just start watching!!

We see many individuals have a habit of looking at their mobile every few minutes. And if that person can’t see the mobile then they get upset, and anxiety arises. Turn off your cell phone for just one hour a day so that it doesn’t become a habit that worries them about what’s going on around them. Just keep away if you want. Eat light food during holidays and festivals so that you don’t have to exert much effort to get food. Turn off the TV. Then find a place to sit. Then this place can be your bedroom, the floor of a building, land, or even a hotel. Because of this, no one will be able to distract you. If in a hotel or resort, write down ‘Do Not Disturb’. Sit comfortably by the window. So that you can experience the open air and the world outside, after sitting on a chair in prayer, keep your eyes open and look at the outside world. If it is raining, look at the falling drops, if there are clouds in the sky, look at them. And experience whatever sounds you hear outside. Then make sure that the room is ventilated and keep the window open. This process is very simple and simple yet effective process is useful to identify yourself.

Take a deep breath and imagine that the fresh, beautiful energies of the world or earth you live in are entering your body as you breathe. Because when you breathe, it enters your body as energy. The closer you are to Mother Nature, the more happiness you get. As you sit near the greenery, you experience the beautiful green airwaves that surround you entering your lungs. The body also feels it. Be alive with these experiences and let the subtle parts of the body feel it.

After some time the process of inhalation and exhalation removes all the impurities from your body and only the beautiful energy enters the body, which you have taken from the environment around you. Normalize the breathing process after inhaling and exhaling for some time.

Close your eyes and concentrate on the pulsations and heartbeats in your heart and communicate to yourself that I am a beautiful image of God. I.. am infinite and have divine power with me every moment. I am taking off in this wide and open universe like a party without confining myself to a small idea or world. May my mind expand and reach great heights. I will free, free, free the mind without locking it in a dark or black box. Generate such feelings

After having this conversation with yourself, open your eyes and look around. You will see that everything around you is brightened. Now get up, stretch your legs and walk some distance, sit down again, and visualize whatever you desire. If you want a beautiful home, then imagine furniture and your favorite sofa, on which you sit comfortably and experience the world outside through the window. Do this kriti every morning or night before going to sleep to get whatever you want.

However, you may face many obstacles while doing so. The first obstacle is your obsessive thinking! Does thinking alone bring about everything? If you are thinking negatively like this, nothing will happen, then definitely nothing will happen to you. And yes, you’re better off trying nothing. Stay where you are happy.

Advertisement

Your words are so powerful

Human stability = Rest and Recreation??? Only!!

The human body is the reserve of energy. This energy we spend in some form. The use of that energy is to do any work, if any work was at the mental level, then we put any energy into talking. Our human body is spent talking about maximum energy. We have to understand the effect of the word. If the word can give energy to someone, then a word can defeat anyone. Every word out of our mouth is a reserve of energy. Which appears in the form of positive energy and negative energy. Whatever the word we give to someone, the word is in any way we receive. This is the rule of nature. You get a hundred times more than you give. The human body provides the most word.

What is the energy in the world, your mental level is visible above? We call condemnation negative energy. What effect does the body have to condemn? It will have to know us. A rule of nature is that we should not condemn anyone. Behind this recognition, a rule of science works. There is an internal power in words. When we speak, they throw the words out with waves. When these airwaves fall into the ears of the listeners, they respond to favourable or adverse reactions according to the inner meaning of those words. When we praise someone’s flattering or admiring, the listener is happy and when we call someone abusive, it becomes sad, hurt or excited.

When Words are converting into energy??

Thus only use the words we impact on others. According to sun science, there are other types of air in the world, out of which there are five types of Vaayu (air) in our body, which are then placed in different organs of our body. “Udan” air lives in the brain and plays the work of the expression of speech. In the rules of nature, there is also a rule that ‘what will happen, what will be done and what is doing, it keeps the nature itself. Who is doing well or bad to make this decision, when we make a person’s evil or condemnation, then our act is interfering in the works of nature, and then he punishes us for it? Udan air, which expresses the expressions of our mind by speech, is a fire element, which consumes the nicely to burn the sin of the judged and turn it into the reversal condemnation.

Thus, the creator itself becomes a victim of their words. On the basis of this science, the brightness has said that never do anybody’s evil, because it has the reverse effect. Based on this rule (Confession) is the rule when there is a sin to humans, to avoid its influence, come to the church and accept the vocal speech and accept your sinner. By doing so, nature will forgive you in this recognition of Christianity, which is the fire element in the udan air, it is employed. When you accept your sin by speaking, the voice consumes its influence and you get sin free.

This is the word science behind ‘Confession’. Another recognition related to word science is that ‘we should never tell anyone their master mantra.’ Nor should we ever tell the auspicious interest and good work done by himself ‘, doing so, the power of our master mantra ends. It means to tell the master mantra that you gave your ‘password’ to someone- I e. gave it to the other. By describing your good actions, you lost some virtue. There is only a science-consuming science. In today’s era, we consider religion to fashion. Therefore, there is a lot of decoration in Gita, Satsang etc. to show even if true reverence. We donate a little but his hints beat more.

What do we want to be??

Enjoys us in the evil of others. The sin made by you hides in the bottom Lawner of the mind. And spell your qualities. In such a way, if everything is not peaceful in our minds, then how do you wonder? That’s why we should say that we do not want to speak. Our progress is in itself. The performance of your weakness is caused by the condemnation of you, which reflects the idea of a low level. If you have to jump at the height then make ideas high. The root cause of all our sorrow is the same, we all do not know our powers of ourselves. We have never thought about that. We live confused. We have forgotten that ultimate power is divine. That is why we are involved in any situation, it is not important. Important things are not what we are present. The most important is what we want to be?

Sanskrit:- The language of God

A celestial sounds

If we look at the science of ancient India, then there is a grand vision of the vast culture of India. The education which teaches us and makes us aware, they are as follows,

Survey Bhavantu Sukhin Survey Santu Niramaya

This higher education is coming only and only from the Vedic period. If we look at the human body, it is an invention of an amazing structure.
Whatever research has been done outside, the same research is done in the human body. If you look at this body, then this creation has originated from sounds. The human body has been created out of Beej Mantras. According to the word Brahma, all the subtle and gross things in the world have all originated from sound. It is believed in the Yoga Sutras that there are 50 basic sounds in this world, the rest of the sounds have originated from these 50 sounds. These basic sounds are also called mantras.

Sanskrit and energy

After studying these mantras in their meditative state, the sages have created a language based on phonetic principles. Which is famous by the name Sanskrit. Sanskrit is such a language, in which human’s throat, teeth, tongue, The original form of all the sounds coming out of the lips and palate can be written in words and can also be heard. It is not possible to do this in any other language of the world. There are a total of 51 characters in the Sanskrit language, which are written in the Brahmi script. This ability is of this language, which is due to the alphabet made on a scientific basis. When one purely recites Sanskrit, there is a full of energy effect on the body of that person. Not only this, but it also has a subtle effect on those who listen to the pure pronunciation of this language. is reputed. The Vedas have the highest place. The person who listens to the original texts of Veda Purana, Ramayana, Gita, then its effect has been seen on his body. Educated in Banaras. Madonna says that, after learning this language’s pure pronunciation, she felt like this, after teaching Sanskrit, she developed the power of hearing.

Sorry, today Sanskrit language is not recognized as much as English. Sanskrit was the national language of the whole of India during ancient times, later it disappeared. According to a survey, the number of people who speak and understand Sanskrit in India is only 10 to 12 thousand people. Many kinds of research have been done in Germany to make the Sanskrit language alive. This is the need in India also. Indians living in America have started teaching the Sanskrit language thereby opening an institution of Sanskrit in New Jersey city.

Some interesting facts about the Sanskrit language.

Knowing these 20 facts about Sanskrit, you will be proud to be an Indian. Today we are telling you some such facts about Sanskrit, which will make any Indian proud.

  1. Sanskrit is considered the mother of all languages.
  2. Sanskrit is the official language of Uttarakhand.
  3. Sanskrit was the national language of India before the Arab intervention.
  4. According to NASA, Sanskrit is the clearest language spoken on earth.
  5. Sanskrit has more words than any other language in the world. At present, there are 102 billion 78 crores 50 lakh words in the Sanskrit dictionary.
  6. Sanskrit is a wonderful treasure trove for any subject. For example, there are more than 100 words in Sanskrit for the elephant itself.
  7. NASA has 60,000 written on palm leaves in Sanskrit. There are manuscripts on which NASA is researching.
  8. In July 1987, Forbes Magazine considered Sanskrit as the best language for computer software.
  9. In Sanskrit, the sentence is completed in the least number of words as compared to any other language.
  10. Sanskrit is the only language in the world that uses all the muscles of the tongue to speak.
  11. According to American Hindu University, a person who talks in Sanskrit will be free from diseases like BP, diabetes, cholesterol etc. By talking in Sanskrit, the nervous system of the human body is always active so that the person’s body has a positive charge. Activates with (Positive Charges).
  12. Sanskrit is also helpful in speech therapy, it increases concentration.
  13. People of Muttur village in the Karnataka state of India speak only in Sanskrit.
  14. Sudharma was the first Sanskrit newspaper, which was started in 1970. Its online version is still available today.
  15. There is a demand for a large number of Sanskrit speakers in Germany. Sanskrit is taught in 16th universities in Germany

Sanskrit is a language of the future.

According to NASA scientists, when they used to send messages to space travellers, their sentences were reversed. Because of this, the meaning of the message itself changed. He used many languages but every time the same problem came. Finally, he sent the message in Sanskrit because Sanskrit sentences do not change their meaning even when they are reversed. like,

Aham Vidyalaya Gachami.
Schools are important.
Gachhamiyah School.

There is no difference in the meaning of the above three. You will be surprised to know that the method of solving maths questions by computer i.e. Algorithms is made in Sanskrit and not in English. The 6th and 7th Generation Super Computers being built by NASA scientists will be based on the Sanskrit language which will be ready by 2034. Learning Sanskrit sharpens the mind and increases the power of memorization. Therefore, in many schools in London and Ireland, Sanskrit has been made a Compulsory Subject. At present, Sanskrit is taught in technical education courses in at least one university in more than 17 countries of the world.

You will be proud to study Sanskrit.

Mantra:- The ultrasound theropy

शब्द सामर्थ्य

आत्मोकर्षण के इस नए युग की नई परिभाषा में हमारे जीवन का कायाकल्प का युग आरंभ कर हो रहा हैं। यह अवसर शुभ संकल्प का हैं। यह शंखनाद का समय हमे जीवन के नए आयाम को आकर्षित कर रहा है। जीवन जीने की नई प्रेरणा प्रदान कर रहा है। जहां आपकी चेतना रूपी प्रकाश आपका स्वागत कर रहा हैं। आपके विचार आपके हर एक भीतर जाने वाले श्वास का प्रतिनित्व करते है। जैसे आपके विचार होंगे वैसे आपका जीवन, आपका भविष्य होगा। विचारो में असीमित शक्ति होती हैं। विचार जब शब्द का रूप लेते है, तो नई तरंगे को उत्पन्न करते है। यही तरंगे आपका संकल्प और दृष्टिकोण बनाने में मदद करती है। इस लिए भारतीय संस्कृति में वाणी को मां सरस्वती का स्थान दिया हुआ है। जिसके आप उपासक बनकर उसे सहज कर रख सके। इसी को स्फूरण शक्ति भी कहते हैं। आपका हर एक शब्द मंत्र के रूप में कार्य करता है। इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता है कि शब्दों में जबरदस्त शक्ति होती है। इसमें इतनी क्षमता है कि कहा जाता है कि इस विशाल ब्रह्मांड की उत्पत्ति शब्दों की इसी शक्ति के कारण हुई थी। ऐसा देखा जाता है कि मंत्रों के माध्यम से इस शब्द शक्ति को विभिन्न रूपों में क्रियान्वित किया जाता है।

शब्दों में प्रचंड ,अपार सामर्थ्य होता हैं। कोई शब्द का आप उच्चारण करते हो तो वह शब्द किसी के लिए ऊर्जा बनकर उभरते हैं, वही शब्द किसी पर आघात भी करते हैं। भारतीय संस्कृती के आधार वेद ,उपनिषद अन्य ग्रंथों में शब्दों को “ब्रम्हा” का दर्जा प्राप्त हैं। भारतीय आध्यात्म में शब्द को आकाश तत्व का प्रतिनिधी कहा है। शब्द को आकाश तत्व से जोड़ा गया हैं। अर्थात, वह उच्च ध्वनि तरंगें होती हैं। इस ध्वनि तरंगों में इतनी क्षमता होती हैं वह विराट ब्रम्हाण्ड की उत्त्पति कर सकती हैं। शब्द की तरंगे और शक्तिशाली हो तो वह तरंगों का शुद्ध स्वरुप “मंत्र ” बनकर उभर कर आता है। हम दैनिक जीवन मे भी प्रेम से बोले गए शब्दों हो या गुस्से से कहे जाने वाले शब्दों की प्रतिक्रिया को आप अनुभव करते हो। इसे प्रमाणभूत सिद्ध किया गया हैं। पदार्थ विज्ञान की दृष्टि से देखें तो , वैज्ञानिक को ने भी यह मान्य किया हैं, और यही नहीं इसे लेकर अलग अलग क्षेत्र में सफलता पूर्वक प्रयोग संपन्न हो रहे हैं। इसे और सुलभ शब्दों में समझाने का प्रयास कराते हैं, “अचिवमेन्ट ऑफ फिजिकल रिहॅबिलिटेशन ” नाम के बुक में इसका सफल वर्णन किया हैं, जो एक महिला के हाथ को पैरालिसिस होने के कारण वह उससे से परेशान थीं, उस वजह से वह कुछ काम करने में असमर्थ तो थी साथ ही साथ वह अन्य वक्तियो की तरह चल फिर नही सकती थी। उसे “अल्ट्रा साउंड थेरोफी” की सहायता से उसकी परेशानी को दूर किया गया। वह कुछ ही दिनों में पूर्ण रूप से स्वस्थ बन चुकी थी। इसी अल्ट्रा साउंड थेरोफी का इस्तेमाल पेरिस के साल्वेंट्री हॉस्पिटल में किया गया, जिससे असंख्य मरीजों को स्वस्थ किया गया। न्यूयॉर्क सिटी के सिनाई हॉस्पिटल में जले हुए इन्सान के ऊपर यह प्रयोग सफल कर विशेषज्ञों ने उसे स्वस्थ किया।

सामान्य रूप से देखे तो ध्वनि में अपार सामर्थ्य होता है यह सिद्ध हुआ है। यहां पर सोचने जैसी बात यह है की, सामान्य ध्वनि इतनी शक्तिशाली हो सकती है तो मंत्र को तो विशेष प्रयोजन के लिए हमारे वैदिक वैज्ञानिक ऋषि मुनियों ने निर्माण किया हैं। मंत्रों की क्षमता अनंत होती है। मंत्रों में सर्वश्रेष्ठ गायत्री मंत्रों को यदि देखें तो यह पृव्थि की सबसे सुंदर और श्रेष्ठ एकमेव प्रार्थना हैं। गायत्री मंत्र में 24 अक्षर 24 शक्तिपूंज का प्रतीक है। इन्ही अक्षरों की रचना कुछ इस तरीके से है, जब मंत्रोच्चार किया जाता हैं। तो इससे विशिष्ठ प्रकार के ध्वनि तरंगों को उत्पन्न किया जाता है। वे ध्वनि तरंगे साधक के मेरुदंड में कुण्डलिनी शक्ति को ऊपर उठाकर उसे आत्मा और परमात्मा का साक्षात्कार कराने में सक्षम होती हैं। यह ध्वनि तरंगे मानव शरीर पर, शरीर के सूक्ष्म अवयव पर किसी बंदूक की गोली की तरह परिणाम करती है। साधक निरंतर श्रद्धापूर्वक अभ्यास से संलग्न रहे तो वह दिव्य अनुभूति को प्राप्त हो सकता हैं। इस में कोई संशय नहीं। इसी ध्वनि विज्ञान पर आधारित विशेष अक्षरक्रम का प्रभाव तंत्रशास्त्र में दर्शित है। तंत्रशास्त्र सबसे उच्च कोटि का शास्त्र है। कुछ लोग इसे मैली विद्या कहकर, अज्ञान के कारण तंत्र शास्त्र पर सवाल उठाते है, यह बात को पूर्णत खंडित किया जाना चाहिए। तंत्रशास्त्र यह उच्च कोटि का शास्त्र है, जो बीज मंत्रों का साक्षात्कार कराता है। ह्रिम, श्रीं, क्लीं, फट यह एका अक्षरी और द्वि अक्षरि बीजमंत्र है। जिनका कोई अर्थ और भाव नहीं होता है। वह बीज मंत्र अपने उद्देश के तरफ गोली किं तरह जाकर कुछ ही क्षणों में अपना प्रभाव दिखाते है।

संगीतशास्त्र के विशेषज्ञ इस बात को जानते है की, सितार वादन में केवल बजने वाली तारों का क्रम मायने नहीं रखता है। उसके ऊपर बजाने वाले की उंगलियो का क्रम महत्व पूर्ण होता है। राग में दूरी और उंगीलियो का शिस्तबद्ध क्रम भी महत्व पूर्ण है। कोई इंस्ट्रूमेंट बजाने के साथ संगीत का स्पष्ट उच्चारण इन दोनो का समन्वय यह केवल साधक के अंत कारण को छूते है, बल्कि ब्रम्हांड में विशिष्ठ प्रकार के स्वर ,ध्वनिलहरी गूंजती रहती हैं। उसी के प्रभाव से साधक के मनोमय कोश और विज्ञानमय कोश का जागरण होता है। यही मंत्र अनुष्ठान की सफलता की निष्पति मानी जाती है। यही परात्पर ब्रम्ह अवतरण की कल्याणी बेला का सुगम अवसर होता है।

हमारे आर्ष ग्रंथो में, वेदों में अनेको मंत्रों का विधान विधित है। मंत्र और काव्यों का अगर अर्थ को देखें तो, काव्य की रचनाओं में और मंत्रो में कुछ फर्क नहीं होता है। काव्यदृष्ठि से अगर गायत्री मंत्र को देखे तो गायत्री मंत्र में दोष पाया जाता है। आठ_आठ अक्षर के तीन चरण पूर्ण करने के बाद शुद्ध गायत्री छंद बनता है। यह 23 अक्षरों की अदभुत रचना गायत्री मंत्र का रूप लेती है। पर हमारे वैदिक वैज्ञानिक ऋषि मुनियों ने गायत्री में 24 अक्षरों को स्विकार किया है। जिसमे “ण्य” के उच्चार पर विशेष ध्यान देकर उसे ” णियम ” की प्रस्तुति देकर 24 वे अक्षर की पुष्टि की गई है। यह 24 अक्षर पूर्ण रूप से उच्चारण शास्त्र पर आधरित है। रचनाकारों को निश्चित रूप से इसकी जानकारी होगी। शब्दों के उच्चारण से उत्त्पन होने वाले ध्वनि प्रवाह को विशिष्ट महत्व देकर मंत्र की रचना हुई है। जैसी वह प्रचलित है।

मंत्र जाप के दिव्य स्पंदनों की ध्वनि तरंगों से साधक की चेतना का विस्तार होता है और वह उस ऊर्ध्व गति को प्राप्त कर लेता है।  मंत्र जाप की दिव्य तरंगें ब्रह्मांड की तरंगों को अनुकूल बनाती हैं।

तंत्रशास्त्र में ह्रदय को शिव और जिव्हा को शक्ति की उपमा दी गईं है। इन्हे “प्राण” और “रयि” नाम से जाना जाता है। विज्ञान की भाषा में इसे पॉजिटिव और निगेटिव कहते है, तो चाइना देश में “यिन और यान” से प्रसिद्ध है। मंत्र उच्चारण के विज्ञान को देखें तो ,शरीर पर यह किसी औषधी की तरह काम करता है। जब जिव्हा से मंत्रोच्चारण होता है , जितनी गति जिव्हा की होगी, उतना प्रभाव देखा जाता है। यह प्रभाव ह्रदय की भावनिक स्तर पर होता है। यह प्रभाव ह्रदय में ऊर्जा का संचार करता है, जो सामान्य तरीको से देखा नही जा सकता है। ह्रदय को “अग्नि” और “जिव्हा” को सोम कहा जाता है। इन्ही दो शक्तियो के समन्वय से आत्मशक्ति का जागरण होता है। शुद्ध भावना और उच्च कर्म की उत्कृष्ठता मंत्र साधना में अपने प्राण फूंकते है। इस रहस्य को जानने के बाद काश आप निराश नहीं होंगे। यह बेहतर तरीका है खुद को जानने का!!

मंत्र के आधार

महर्षि जैमिनि ने अपने ग्रंथ “पुर्वमीमांसा” में अपनी बात का वर्णन करते हुए बताया है, की मंत्र शक्ति के 4 आधार होते है,

1 प्रमाण्:
इस का अर्थ होता है, कल्पना से परे होकर विधान को निश्चित करना ।

2 फलप्रद :
फल का उचित अनुमान लगाना।

3 बहुलीकरण :
व्यापक क्षेत्र को आकर्षित करना ।

4 आयातयामता :
साधक के श्रेष्ठ व्यक्तिमत्व की क्षमता इन 4 तत्वों का समावेश होने के बाद ही मंत्र प्रक्रिया में शक्ति संचालन होता है।

महर्षि वशिष्ठ ,विश्वामित्र, परशुराम इन सब ऋषियों ने मंत्रों को सिद्ध कर अदभुत परिणाम प्राप्त किए है। सामान्य व्यक्तियों में तप सामर्थ्य की पराकाष्ठ, दृढ़ संकल्प, उपासना में अशुद्धि का दोष रहने से मंत्र की फलश्रुति का प्रयोग असफल होता है। हम राजा दशरथ को यदि देखें तो इन्होने पुत्रेष्टि यज्ञ के माध्यम से पुत्र धन में मर्यादा पुरुषोत्तम “श्री राम” प्रभु को प्राप्त किया था। यह पुत्रेष्टि यज्ञ संपन्न कराने में अखंड व्रतधारी परम तपस्वी श्रुंगी ऋषि का योगदान राजा दशरथ को मिला था। महाभारत का एक प्रसंग है, अश्वत्थामा और अर्जुन ने मंत्र उच्चारण करने के साथ “संधानअस्त्र ” का प्रयोग युद्ध स्थल पर किया था। उस अस्त्र की प्रचंड शक्ति महर्षि वेदव्यास जी को ज्ञात थी। उन्होंने आदेश देकर अपने अपने भेजे हुए अस्त्र को पीछे लेने का आदेश दिया था। अर्जुन ने अपने अस्त्र को पीछे लिया क्यूकी, अर्जुन जितेन्द्रिय था , तो अश्वत्थामा असंयमित होने के कारण वह अस्त्र को पीछे लेने में असमर्थ रह गया।

मंत्र शास्त्रों को देखा जाए तो ,मंत्र विनियोग के पांच अंग होते है,

  1. ऋषि
  2. छंद
  3. देवता
  4. बीज
  5. तत्व

इन पांचों को हि मंत्र शरीर के आधारस्तंभ माने जाते है। हमारा भौतिक शरीर भी पांच तत्वों का बना हुआ है। पंच प्राणों से सुक्ष्म शरीर की उत्पति हुई हैं। वनस्पति में भी यही पांच अंग , पंचतत्व का समावेश होता है। मंत्र शक्ति को जाग्रत करने में यही पांच अंग मुख्य हैं। जिनके आधार पर मंत्र शास्त्र की रचना हुई है,

1. ऋषि :
ऋषि का अर्थ यह होता है, गुरु। उपासना यह महत्व पूर्ण विज्ञान है। जिसके लिए सशक्त गुरु का मार्गदर्शन ही तपग्नी का आत्मबल प्रदान करता है। समर्थवान गुरु की आवश्कता इस क्षेत्र में अनिवार्य है।

2. छंद :
छंद का अर्थ होता है, स्वर। ताल, लय, किसी मंत्र को यदि योग्य स्वर और लयबद्ध तरीके से उच्चारण होने के बाद इसका दूसरा चरण फलद्रुप होता है।

3. देवता :
मंत्र अनुष्ठान में “देवता” का अर्थ होता है, इस प्रक्रिया से मंत्र को बल प्रदान करने वाले दैवी शक्तियों को आकर्षित करना ।

4. बीज :
बीज यह मंत्र का स्विच होता है। जो शक्ति का भंडार होता हैं। बीज ही मंत्र की क्षमता और दिशा परिवर्तन कराता है।

5. विनियोग :
विनियोग का अर्थ होता हैं, तत्व, उद्दिष्ठ। किस प्रयोजन से साधना संपन्न की जा रही हैं। उसका संकल्प और उद्देश ही तत्व है।

मंत्र यह दीक्षा के रूप में स्वीकार कर आप ईहलोक और परलोक को सुधार सकते है। मानव जीवन मे मंत्र यह एनर्जी का काम कर आपको अनंत ऊर्जा से जोड़ता है। आप अपने विचारो को शक्तिशाली बनाकर शक्तिशाली समाज का निर्माण कर सकते हो। मंत्र शास्त्र पूर्णतः विज्ञान पर आधरित है। मंत्र दीक्षा से आप स्वस्थ समाज निर्माण कर नया आयाम स्थापित कर सकते हो। मंत्र चिकित्सा के रूप में उभर कर इसे संशोधन का विषय बनाना चाहिए। भारत देश की अनोखी धरोहर है मंत्र शास्त्र। इसे शिक्षा व्यवस्था में शामिल कर विचारो की उच्च श्रृंखला को छुआ जा सकता है। संशोधन के इस विशाल क्षेत्र में मंत्र शास्त्र अनोखी पहल होगी। इस क्षेत्र को बढ़ावा देने का प्रयास होना चाहिए । वायर लेस एनर्जी का ब्रम्हांड के साथ जुड़ने का एकमेव जरिया है। ह्यूमन एनर्जी इंडेक्स में वायर लेस कनेक्शन और ऊर्जा को ग्रहण करना आने वाले दिनों के लिए वरदान साबित होगा। मंत्र शास्त्र मानव जीवन का जीने का नया तरीका उभर कर सामने आएगा। मानव ऊर्जा को अन्न से ग्रहण करता है जो सीमित है, पर मानसिक स्तर पर ऊर्जा को ग्रहण करना मानव की जरूरत होगी। आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस मानव के सब काम को छीन सकती है पर सोचने का अधिकार केवल मानव के पास ही रहेगा। सोचने की शक्ति को योग्य ऊर्जा देनी होगी। भविष्य में डर का अनोखा बाजार तयार होने आकांक्षा को टाला नहीं जा सकता है। ऐसी स्थिति में स्वस्थ विचार ही आपकी जमा पूंजी होगी। आपके विचारो को ऊर्जा मंत्र शक्ति ही दे सकती है इस में कोई संशय नहीं। क्यूकी भारतीय संस्कृति एक विशाल हृदय का परिचय देती है। हमे जरूरत है ,हम अपने धरोहर को संजोकर रखे।